Log in| Register

Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Monday, 07 July 2014 11:00

अस्मिता (काव्य संग्रह)

Shobha Shrivastava Written by 
Rate this item
(5 votes)

 

बंद थे कलरव मधुर खग-वृन्द के,

                      चेतना के बंद थे निद्रित नयन;  

थे हृदय सन्तोष के परिमल खिले,

                      शान्ति से आबद्ध करता सुख शयन । 

 

बुद्धि की थी ज्योति लय विश्राम में,

                       उर-हताषा जागती ले वेदना;  

विजय-स्वप्नों में बसा कौषल हँसे,

                      थी उनींदी शेष पर संवेदना ।

 

भवन सोए सो गई अट्टालिका,

                   जीर्ण कुटिया थी प्रतीक्षा में निरत;  

धन, गुलाबी स्वप्न-सर तिरता हुआ,

                  ताकतीं भूखी कराहें सुख-विरत ।

 

मुस्करा शैषव-नयन सोए हुए,

                         और सस्मित अधर किंचित खुल चुके;  

जागते सूने विवष बंदी नयन,

                         मूक हो कर अश्रु-कण थे ढुल चुके । 

 

डाल आँचल में जगत की नींद के,

                         निषा ने नूपुर सजाए पाँव में ;  

रत्न-कण नीली चुनरिता में भरे,

                         नाचने आई प्रकृति के गाँव में । 


 

आज करती रात नर्तन चाव से,

                      अब उमा के बाद पूनम आ रही;  

मिलन होगा आज तो प्रिय चन्द्र से,

                     रागिनी  उन्मत्त  उर की गा रही । 

 

मदिर गंधायित बहे चंचल पवन,

                  थपकियाँ दे बादलों को प्यार से;  

कभी लहरों से करे उठखेलियाँ,

                 कभी खेले गुलमुहर की डार से । 

 

नीलिमा का चीर कालिन्दी पहन,

               थी तरंगित मरस्त नव श्रृंगार में;  

चूमती स-स्नेह तारक-दल खिले,

              मुस्कराते जो उतर कर धार में । 

 

लिए श्रद्धा धरित्री की मुदित मन,

                   लहर में बहते हुए सिहरे सुमन;  

पास कुछ प्रतिबिम्ब तारक गगन के,

                   व्यक्त करते नभ-धरा का मधु-मिलन।

 

दूर जो तरू लहलहाते थे खड़े,

                      कान में थे परस्पर कुछ कह रहे;  

कुछ प्रकृति के भेद के एकानत क्षण,

                     पवन में होकर मुख थे बह रहे।


 

भेद है वह क्या छिलाने को जिसे,

                     गगन था विस्तार पाता जा रहा ?

ज्योति की गंगा बहाने कौन सी,

                    तिमिर जग पर मौन छाता जा रहा है?

 

मूक घाटों के कृत्रिम यह नागरिक,

                   देखते सौन्दर्य निर्जन प्रकृति का;  

इस विजन तट के निवासी भी उधर,

                   मापते साम्राज्य मानव-सुकृति का ।

 

मौनता का राज्य  जो छाया हुआ,

                        कभी भेदे सीटियों की धवनि उसे,

कभी कोलाहल खगों का चीख-सा,

                       था उगाता हिंस्र-पषु का भय जिसे । 

 

रात्रि के इस गहनतम को अर्थ दे,

                      देखते तरू पत्र-हीन दुःखी खड़ेः

दूर पथ की दीप-माला यों लगे,

                     तिमिर जय-अभियान के सैनिक खड़े।

 

कांतिमय छाया निषा की साँवली,

                       गहन करती प्रीति के पत्ते हरित;  

प्यार-बोझिल श्वास का मधु-स्पर्ष कर,

                      वृक्ष झुकते भार से सुख के अमित । 


 

शुद्ध पावन प्रेम का बन पारखी,

                       सुमन से मकरन्द सौरभ ले अमर,

क्षितिज-रेखा को चला मंगल मलय,

                      वारने को नभ-धरा के प्यार पर। 

 

हृदय की सूखी उमंगों-सी झरी,

                     पत्तियाँ पीली डगर में थीं पड़ी,

हरित पत्रों की हँसी  सुन-सुन मधुर,

                     तिलमिलाती धूलि-पीड़ा में गड़ी

 

आह! कैसा शब्द, करूण कराह यह

                            खड़खड़ाहट में बदल ध्वनिमय हुई;  

दुःख-जर्जर पत्तियों के गात पर,

                           किन पगों की दाब यह असमय हुई।

 

कौन बेसुध आ रहा निर्मम बना ,?

                        प्राण की पीड़ा  कभी जानी नहीं ?

कुचलता है दुःखी उर असहाय का 

                      क्या कराहों की सुनी बानी नहीं ?

 

ओ़ढ़ झीनी शुभ्र धन की चूनरी

                     तारिकाएँ झांकने नभ से लगीं;  

अर्ध-मुकुलित पलक-दल को खोलकर

                    देखतीं इस ओर विस्मय में पगी।


 

कौनर चलता आ रहा है बावरा?

                        किन पगों की चाप धीमी सुन पड़ी।

जानने को डालियाँ इस भेद को

                        वन का आश्रय लिए थीं झुक पड़ीं।

 

तरूवरों के पात सहसा कह उठे,

                        कौन है बाधक बना एकांत में ?

पवन भी ज्यो सनसना कर कह उठा

                       कौन भरमाया निषा के प्रांत में ?

 

दुखी उर ले आ रहा है क्या यहाँ,

                     ऊब कोई दूध-धोए दिवस से?

ज्योति के साथी हजारों परख कर

                     माँगने कुछ शांति के क्षण तमस से। 

 

भक्त कविता-कामिनी का चाव से,

                        लेखनी में रूप भरने आ गया;  

शालि भावों का उगाने के लिए;  

                       यह सुधर सीमान्त निषि की पा गया।

 

प्रकृति-सुषमा की पिपासा का तृषित,

                            आ गया हो तृप्ति पाने रूप से;  

यामिनी की छाँह शीतल पा यहाँ ;  

                           चाहता हो मुक्ति मन की धूप से।


 

दूर, इतनी दूर क्यों आया हुआ;  

                         नगर में क्या वाटिकाओं की कमी ?

घाट पर भी प्राप्य था यह सुख अतुल,

                         है वहाँ भी प्रकृति की देवी रमी। 

 

आ रहा यह किस प्रयोजन से यहाँ?

                        बह चला है आज क्यों इस ओर मन ?

जो नगर से दूर निर्जन को चला,

                        हिंस्र पषु से भीत हो कँपता न तन?

 

किन्त, पग चलते हुए, चलते रहे,

                       ज्यों न समझे प्रकृति के संकेत को,

तीव्रतर हो कर पवन भी क्रोध में

                       रोकता था पथ उड़ा कर रेत को।

 

गति हुई फिर मन्दतर तट के निकट

                               प्रकृति  की भी सांस धीमी  पड़ गई,

काँपता तन अधिक कम्पित हो गया;  

                               यह निषा  भी कम्पनों से जड़ गई।

 

तट-निकट आए पथिक को देखने,

                             विचल  लहरों में उठा आपात-सा;  

ठिठक कर लौटीं उमड़ती ऊर्मियाँ

                            विकल स्मिय का लगा आघात-सा। 


 

वायु  भी थर्रा गया यह देख कर,

                            एक नारी-मृर्ति है सम्मुख खड़ी;  

फल जिसको तज बहारें गत हुई,

                            और पतझर-ऋतु पँखुरियों में जड़ी।

 

बात थी सुस्पष्ट कवि-हृदया नहीं,

                             मधुर उपवन भाव की मालिन नहीं;  

दृग-चषक में तप रही थी रिक्कता,

                             छाँह-पनघट खोजती ग्वालिनी नहीं।

 

अधर सूखे, भिंचे थे, कुछ फैल कर,

                               नासिका उत्तेजना से फूलती;  

भाल-रेखाएँ मगर झलका रहीं,

                               एक निष्चित भावधारा बलवती।

 

अब तलक थी दृष्टि निष्चित बिन्दु पर,

                                  एक निर्धारित हुआ गन्तव्य था;  

चल हुए दृग एक अस्थिरता उठी,

                                  स्यात् कुछ शंकित हुआ मंतव्य था। 

 

उँगलियाँ कुछ परूष सी होने लगीं,

                           और कोमलता सिमटने सी लगी;  


 

मोह जीवन का झुलसता जा रहा,

                                   प्रीति में कोई विरति-ज्वाला जगी। 

सिलवटी में बुनी, दुःख रँग से रँगी

                                   अस्त-व्यस्ता चीर होती जा रही;  

काँपता कर, हाँफता प्रत्यंग था,

                                    तीव्र साँसे उज्वाल ढोती जा  रहीं।

 

नयन थे अंगार, तपती थी पलक,

                              था भयावक भाव चितवन में भरा;  

चिन्ह वर्षा के कपोालें पर मगर,

                             जेठ-दुपहर बनी नयनों की धरा।

 

फरफराया श्वेत आँचल वायु से 

                              काँप कहलता ज्यों कथा निज प्रलय की।

और काले केष भी लहरा गए,

                             ज्यों दिखाते हो अमा उस हृदय की ।

 

खड़ी थी तट के निकट वह सत्वरा,

                             जगमगाया शीत लहरों का मुकुर;  

लोक सब तज, जल -प्रतिच्छवि के लिए,

                            प्यार उमड़ा जा रहा उर में प्रचुर।

 

प्रीति आलिंगन लिए जल-कणों हित,

                             अनसुनी बातें सुनाने लहर को;  

झुक गई तट छोड़ने को धरा का,

                             जोड़ने  जीवन-मरण के प्रहर को।


 

बजीं सहसा श्रवण  में शत घंटियाँ,  

                             नयन में कुछ चित्र सा अंकित हुआ;  

एक, केवल एक अन्तिम जग-झलक,

                            फिर मिलेगा क्या हृदय शंकित हुआ ?

 

शुभ्र तारकखचित नीलाकाष-पट;  

                           शस्य भू का तुष्ट गौरव वृक्ष में,

मस्त खग-सी फुदकती रही दिषि मलय,

                           हाय! अंतिम साक्ष्य जीवन-कक्ष में।

 

आज तक इस श्वास-धारा में निहित,

                             दुःख, पराजय की तरफ जीवन बहा;  

मृृत्यु भी जय, सुख न दे पाई अगर,

                              लक्ष्य तब फिर अस्मिता का क्या रहा ?

 

किन्तु, सब पल भूल, केवल एक पल,

                              काष! जीवन एक पल ही हँस पड़े;  

डँस चुके हैं सर्प साँसों के विपुल,

                              मरण के उस पार हो तक्षक खड़े।

 

झुका तन सीधा हुआ यह सोच कर,

                             माँग तो लूँ क्षमा इस अपराध की;  

थक गया मन जूझ कर तूफान से,

                            तट नहीं छू सकती नौका साथ की ।


 

जन्म रूपी निधि विधाता सौंपता,

                                   काल-वन से उठा कर कुछ आयु-तृण;  

नष्ट असमय हो अगर तो पाप है,

                                  साँस का श्रंगार हो तो पूर्ण ऋण।

 

चाँद उगने में प्रहर कुछ शेष थे,

                                   आज यौवन पर निषा तम ले खड़ी;  

है बड़ी नन्हीं कहानी श्वास की,

                                   किन्तु भावों  की परिधि कितनी बड़ी ।

 

स्तब्ध-सी चारों दिषाएं हो गई,

                                   बन चुनौती सी, खड़ी वह मूर्ति है;  

तेज साँसे पूछतीं आकाष से,

                                  इस अधूरे  विष्व की क्या पूर्ति है ?

 

प्रष्न कण-कण  से प्रकृति के उर करे,

                              जो धड़कता सभी में बन एक है;  

भला क्यों अन्तर तनों के राग में ?

                              साँस की लिपि में नहीं जब भेद है।

 

क्यों नहीं अधिकार जीने का उन्हें,

                             हीन हैं जो विभव, बल से, भागय से;  

धर्म की जीभें सहस्रों, एक दृग,

                          राग क्यों बाँधा गया वैराग्य से ?


 

कौन उत्तर दे, बने सब प्रष्न थे?

                           स्वयं उत्तर प्रष्न बन कर बिलखता,

मृत्यु महँगी, साँस सस्ती बिक गई,

                         स्वप्न-सुख बनकर यहाँ बस टूटता । 

 

बंद दोनों नयन, जोड़े कर युगल,

                           अधर सूखे थे, प्रकम्पन सह रहे;  

थे कदाचित् आज के इस कृत्य पर,

                           क्षमा के कुद शब्द, प्रभु से कह रहे। 

 

पलक धीमे, एक क्षण को थी खुली,

                         झुकगई फिर अमित दुःख के भार से;  

एक ठंडी  श्वास भर कर छोड़ कर,

                          प्रीति त्यागी शेष जो संसार से।

 

शेष था अब बल न, कम्पित पाँव में,

                      बुद्धि से भी धैर्य की आषा न थी;  

हृदय से जो जा चुकी थी कामना,

                       लौट आए पुनः, अभिलाषा न थी। 

 

स्वयं रहती खड़ी, तन में दम नहीं,

                          पहुँच से बाहर सहारा वृक्ष्ज्ञ का;  

यह न तट के बन्धनों को छोड़ती,

                        वह जड़त्व न त्यागते निज कक्ष का ।


 

टेक घुटने, नयन पृथ्वी  पर टिका,

                        ज्यों पराजय हो, प्रतीकिल हृदय की;  

चिन्ह कुछ अंकित हुए धन-पटल पर,

                       कह रहे हों बात करूणा-उदय की।

 

थे विचारों के पवन अब वेगमय,

                      ला सँजोये मेघ दुःख के हृदय पर;  

मन-धरा पर छा गया लो, तम घना,

                        लग गए प्रतिबंध रवि के उदय पर।

 

भाल घुटनों पर झुका, दृग बंद थे,

                  खो गई-सी वेदना के सिन्धु में;  

सघन-सुविध की बसंरी बजने लगी,

                 एक छवि साकार तन, स्वर विन्दु में।

 

दुःख भरी पलकें उठीं आष्चर्य से,

                   देख सम्मुख ज्योति-पुँज विहँस रहा;  

चपल विद्युत थिर हुई साकार हों,

                   चमक से था रूप ऐसे लस रहा।

 

श्वेत-काले लाल बूटों से भरा,

                   फरफराता उड़ रहा परिधान था,

जिन्दगी के धूप-छाँही द्वन्द्व दमें,

                  आस का दूटता हुआ अभियान था। 


 

ओस-भीगे, प्रात-फूलों से नयन,

               दृष्टि में कुछ भान परिचय का लिए;  

कभी सब कुद अपरिचय  के धुंध-सा,

              कभी परिचय जला देता शत दिए। 

 

नयन-नद में गहन दुःख की बाढ़ थी,

             डोलती विस्मय-तरणि तिरने लगी;  

चमक उठती कभी चिन्ता चंचला,

              बुद्धि पर बदली घनी घिरने लगी।

 

यह अलौकिक मानवी किस लोक की,

                 सृष्टि या केवल नयन की, हृदय की;  

या विधाता की कृपा साकार हो,

                आ गई हो भीख देने अभय की । 

 

फिर नवागत मूर्ति गतिमय हो उठी,

              ये मृदुल पग बढ़े दुःिखता के निकट;  

एक क्षण को डर गई दुखिया सहम,

            आह!  कोई हो न यह छलना विकट।

 

एक परदा था, गहन तम का कठिन,

             वायु कीलित-सा अजाने भार में,

प्रकृति छायाहीन भ्रम के जाल-सी,

             ज्ञात बंदी तिमिर कारागार में।


 

गगन ने भी सहम कर शकालु हो,

                 घन-पटल से ढँक लिया निधि-कणों को;  

नखत के प्रतिबिम्ब यमुना से मिटे,

                जय मिली सन्देह के दुःख-क्षणों को।

 

त्रास उतने यह न दे सकती कभी,

                    त्रास हैं इन जगत् ने जितने दिए;  

क्या डराएगी नए आघात से,

                   जिन्दगी ही हार जो कब के गए !

 

सहमती आँखें हुई भय-षून्य अब,

                    एक क्षण कुछ सोचती -सी मौन हो;  

पवन, लहरे, वृक्ष, नभ स्पन्दनरहित,

                   शून्य में फिर शब्द गूँजा ‘कौन हो ?’’

 

ओष्ठ-कूलों में प्रकट मधु-स्मृति-नदी,

                 मोहनी-सी उर्मियों में थी बही;  

जल -तरंगी नाद लहरों पर बजे,

                बोल गूँजे ‘‘मैं तुम्हारी स्मृति वहीं।’’

 

क्या प्रयोजन कह उठे अपलक नयन?

              जब विगत मैं भूल जाना चाहती;  

एक पल ही शांति का जो दे सके,

             विस्मरण के कूल जाना चाहती।


 

छलछलाए, अश्रु-स्मृति के नयन से,

             काल-धारा जग घुला देगा मुझे;  

श्वास की अंतिम विदा के साथ ही,

             प्रकृति का हर कण भुला देगा मुझे। 

 

गिरे दुखिता के नयन-पट ज्यों कहे,

             मैं अभागिन क्या करूँ तेरे लिए; 

आज तक मैं दे न पाई कुछ तुझे,

            शेष यह आषा न अब मेरे लिए।

 

एक किसलय टूट डाली से गिरा,

               तर्जनी स्मृति की उठी संभ्रममयी;

जोड़ती इस पार को उस पार से,

                एक रेखा धूल से नभ तक गयी।

 

मृत्यु-जीवन के अधर में इस समय,

                एक पल का यह बसेरा ले रही;

नीड़ तेरा मैं दिखाती हूँ तुझे,

               भूल कर जिसको तिलांजलि दे रही। 

 

थी मुखर सर्वत्र भाषा मौन की,

             उर्मियों की छलछलाहट थम गई;

प्रकृति-पट पर साँस की यह नाटिका,

            वृक्ष की थी आँख उस पर जम गई।


 

क्षितिज-पट थे शून्य जो अब तक अरे,

             बन गए संजीव जैसे चित्रपट;

एक जिज्ञासा-किरन उर से चली,

               बाँध लाने दृष्य उर के सन्निकट।

 

यही नीरवता समाई थी कभी,

              बन किरन काली धरा की गोद में;

फिर हुई प्रभु-सृष्टि आविर्भूत यह,

             रच प्रथम, विधि हँस पड़ा था मोद में !

 

दे उरों को भार, मसि दे अधर को,

             हाय  के सोहर उठे थे गूँज फिर।

नौबतों की ध्वनि घुटीं आहें लिए,

             निर्धनों को तो सुता अधिभार चिर।

 

धूम लिपटी याद केवल छोड़ कर,

                      बालिका से दूर, विकल बिसूरती;

माँ चली उस पार हो, असहाय-सी,

                     रह गई बस दृष्टि जग की घूरती।

 

आय ने देखे बसन्ती दिन नहीं,

                       पतझरी ऋतुएँ सदा आती रहीं;

झिड़कियाँ फिर अरु-लडि़याँ, सिसकियाँ,

                       लोरियाँ उसके लिए गाती रहीं।


 

विवषता की श्रृंखला जीवन बना,

                        जल गए जननी-चिता संग स्नेह-स्वर;

शीष पर अब भत्र्सना की छाँह थी,

                         बन चला अभिषाप जैसे जन्म-वर।

 

आयु के यों वर्ष पन्द्रह कट गए,

                        संकटों की खाइयाँ पग-पग बनी;

दिव्य बंधन रूप परिणय-पंथ पर,

                        नागफणि  की झाडि़याँ आगे घनी।

 

संग को साथी मिला वार्धकय था,

                          आश्रय को जीर्ण जज्ररता मिली;

रूप के साधों भरे सीमन्त में,

                          थी  विषम सिन्दूर की लाली खिली।

 

वह समाज विनाष का ही पात्र है,

                         विवषताएँ जहाँ पर पग तोड़ दें;

धर्म का धारण नहीं है, क्रूर बन,

                         न्याय के दृग कुछ प्रथाएँ फोड़ दें। 

 

देवताओं ने रचा यह धर्म कब,

                    युक्ति सबलों ने चली, युग को छलाः

शोषिततों से अर्थ एवं ज्ञान को,

                       छीन, सौंपी रूढि़यों की अर्गला।


 

धर्म तो उभयाक्षित होता है सदा,

                      एकपक्षीय न्याय तो अन्याय है;

द्वार जब प्रतिकार के खुलते न तो,

                       भंजना ही एक मात्र उपाय है।

 

धर्म का जब एक फूटे चक्षु तो,

                       दूसरा भी फोड़ देना श्रेयकर;

एक अंगी अन्धता ले क्यों बढ़े,

                       देव-वाणी की लगा मुद्रा अमर। 

 

यह नहीं है धर्म, स्वार्थ कुयोग है,

                          शेष जिसकी लौधुआँती लाज यह;

जीत है अन्याय की तो चिर नहीं,

                        लायेगा ही न्याय निज सम-राज यह।

 

चुनरी पर रंग कच्चा जो चढ़ा,

                         दो बरस ही बाद धूमिल पड़ गया;

गगन पर रोली लगी जो साँास की,

                         तम वहाँ पर शीघ्रता से जड़ गया । 

 

एक था सन्तोष काली रात में,

                       चाँद आँचल में अभी आ जायेगा;

आँसुओं की यह झड़ी  रूक जायेगी,

                       हास भूला पथ पुनः पा जायेगा।


 

चाँद उगते दो घड़ी बीती नहीं,

                    कटु जगत् के राहु ग्रसने लग गए;

पुत्र पर तो पितृहन्ता दोष है,

                     धर्म ठेकेदार कहने लग गए। 

 

इस अँधेरी यामिनी के व्योम में,

                  हो गया दुर्भाग्य तारे का उदय ;

जलद ज्वर के, चन्द्र ढँकने आ गए,

                 रहा सोता मन्दिरों में प्रभु सदय।

 

वेद-वर्णित पूज्य ममता, पीर अब,

                 विषम तर, विज्ञान की इस सृष्टि में;

आज गाँधी और नेहरू-देष में,

                 दया-करूणा वन्दिनी कुदृष्टि में।

 

चन्द्रगामी लोक में ही आज यह,

                 बिना  औषध अबल का संबल  चला;

कहीं धन का गर्व-गौरव हँस रहा,

                विवषता को मोल दे कोई चला।

 

सती का जीवन-परीक्षा-फल यही,

                   चाँद को घन का कफ़न चिर, तो मिला;

पुत्र की धू-धू चिता संग जल गया,

                       फूल अन्तिम  आस का था जो खिला।


 

रवि बिना दिन, दीप कब बिन स्नेह का,

                          प्राण के बिन तन, कहीं कब रह सके?

एक सुत से वंचिता विधवा भला,

                          श्वास का भी भार कैसे सह सके?

 

घोर झंझा शत, अकेली हो तरी,

                       काँपते पतवार निर्बल हाथ में;

छिद्र भी जब भाग्य-तल में हो गया,

                       डूबना ही है  भँवर के साथ में !

 

आज जो यह रात काली छा गई,

                      जायेगी क्या भाग से उसके कभी?

साथ जब मर जाय जीने की, भला,

                        मौत भी तब पास आयेगी कभी ?

 

भाग्य के, जग के, दिये इस तिमिर में,

                      डूबने आ गई जिस दह-कूप में;

यह उसी के नयन से उमड़ा कभी,

                     दोष-दाता कौन है? किस रूप में ?

 

आज की इस सृष्टि की उत्पत्ति का,

                      भेद जैसे मौत की हो आस है;

और गति की लाष भी ढोना कठिन,

                       पाँव चुभती साँस बनकर फाँस है?


 

जब कि जीवन पंक की परिणति बने,

                     मृत्यु आषा, उगे पंकज-छन्द बन;

साँझ की अन्तिम घड़ी में बन्द हो,

                     अबल, आत्मा-भ्रमर, उसमें थकित तन!

 

हृदय की हत्या हीं जब दोष कुछ,

                          काय-मोचन पाप क्यों है धर्म में ?

मारना शुभ मन, जलाना प्राण को,

                        क्यों बना आदर्ष धर्मज मर्म में ?

 

प्राणि धारण जो करे,वह धर्म है,

                    क्या उचित यूँ निठुर हत्या प्राण की?

डूबते का दोष-दर्षन कर रहे

                    युक्ति, अनदेखी रही पर त्राण की। 

 

कब सँजोता कौन सूखी पाँखुरी,

                         फुल्ल सुमनों को सजाते हर गली;

है यही जग-रीति, तो फिर पाप क्या?

                        जो सिराने शुष्क  जीवन बह चली ?

 

सर्वदा बलिदान भव-आदर्ष है,

                       मृत्यु   से ही सदा नव जीवन जगे;

ध्वंस से ही एक जर्जर वृक्ष के,

                       नव विटप के स्वस्थ अँकुर फिर उगे।


 

पुण्य-भू, पर जन्म तक भयप्रद यहाँ,

              जिन्दगी है बोझ, इच्छा रोग है;

जो बदलना चाह रहे इसकी नियति,

             मृत्यु बस क्यों माध्यम, वह योग है।

 

जिन्दगी के कथित उज्जवल तत्व में,

            कष्ट पीड़ा और काली भ्रान्ति है;

मृत्यु  के उस पार तम हो, शून्य हो,

           सहज मिल जाती उजाली शान्ति है!

 

मानसिक संबल बहुत है श्वास को,

                 विगत का हो या भविष्य-विधान का;

पर चतुर्दिक भाव के पाथेय छिन,

                   टूट जायेगा मनोबल प्राण का।

 

बुद्धि में संकेत की क्षमता न थी,

                        उस पलायित धैर्य  को वह रोक ले;

काल की कटु श्रृखला को टोक दे,

                         गगन-गिरती गाज को अवलोक ले!

 

जिन्दगी  की याद ऐसी लहर है,

                             काम रूपी वेष अपने धारती;

नाथ मन की स्वयं उर-तट पालकर,

                            वेदना की भँवर में जा डालती।

 

दग्ध जीवन एक लजवन्ती लता,

                            याद की उँगली जरा जो दिख गई,

कांति मुरझाई, प्रकट हो झुर्रियाँ,

                          पीर का इतिहास मन पर लिख गई।


 

 

मूर्ति स्मृति  की कहीं फिर छिप गई,

                           प्राण के आधार सारे खो गए ;

फिर निहित कर नियति को निज परिधि में,

                           नीरमय दृग-द्वार मुद्रित हो गए।

 

पुनः आया कौन बोने अश्रु-तरू?

                        देख उर्वर भूमिकादो नयन की;

दृष्य थे कुछ और काले हो गए,

                       खुल गई धन-यवन्किा, मन-गगन की।

 

मैं तुम्हारी चिर सखी, पहचान ले,

                      साथ अन्तिम दे रही हूँ आतुरी;

मैं तुम्ही में थी समाई पीर बन,

                     तान बेसुर ज्यों समाए बाँसुरी।

 

सदानीरा नयन में मैंने भरी,

                    दुख-सुमन जिनसे युगों सींचे गए ;

कटे सपने भी दिए सन्तोष के,

                   चित्र सुख के कुछ जहाँ खींचे गए!

 

प्राण तेरे टिके मेरे वक्ष से,

                 श्वास तेरे तैरते इस सिन्धु में;

आज भी प्रतिबिम्ब हर उपलब्धि के,

                  चिटखते हैं सिमट मेरे विन्दु में!


 

 

देख लो, मेरे पुरातन रूप में,

                       आज गहनाई प्रकृति तेरे लिए ;

मैं गगन के आँसुओं की जन्मदा,

                       चाँद-तारों ने मुझे फेरे दिए!

 

यहीं सूखे पत्र-कविता श्वास की,

                    गाछ अनुभव के अमित तम हैं भरे

हरित पत्रों को गहन करके निषा,

                    कर रही है भावना के त्रण हरे।

 

पवन निज आरोह भर दुःख बालुका,

                    धूल धूसर, स्वर करे निषि-बीन के;

अधलगी मुरझी कली की डाल से,

                 आश्रय की आस ले ली छीन के!

 

दुःख समीकरण से भरा मंडल लगे,

                पीर का जल नयन धरती में बहे;

पीर के प्रतिबिम्ब तारे या कि हैं,

                ज्योति के शव लहर में उतरा रहे!

 

व्योम में अंगारकों की मालिका,

                 ऊष्मा को पर न मिलता एक कण;

वेदना के पंख भीगे, रह गई,

                 नीड़ में बुझती प्रतीक्षा की किरन।


 

 

फूल-सा तन अश्रु-जल में बह रहा,

                है पवन देता थपेड़े निठुर बन;

प्रकृति सारी मात्र रोदन-स्रोत है,

                झूठ दुनिया में कहीं है हास-कन।

 

बिलखती लहरें चली जिस ओर हैं,

                है कदाचित् देष वह विश्राम का;

साथ ले लो इस भटकते प्रान को,

                यह निवासी है उसी चिर ग्राम का।

 

हाय! कितनी वेदना है हर कहीं,

                 हर दिषा है रिक्त फैली आँजुरी;

धरा-अन्तर जल रही है आर्द्रता,

                  मेघ-माला पहन रोती नभ-परी।

 

वृक्ष के यह तन्तु कितने शून्य हैं,

                    कहाँ जीवन है यहाँ, यह सच नहीं;

पवन के ही आश्रय से पत्तियाँ,

                   वेदनामय गीत निज में रच रहीं।


 

है नहीं सौरभ प्रसूनों की, वरन्,

                         मोल खिलने का पवन है ले रहा;

कली की भोली कुँआरी साँस पर,

                          वन है कितने बवंडर खे रहा।

 

वृक्ष धरती पर खड़े साक्षी बने,

                    उन दुःखों के जो धरा ने है सहा;

अनगिनत नदियाँ उगीं हिम-षिखर से,

                    ताप जब वसुधा-नयन में है दहा।

 

लहर के टकराव कूलों पर थके,

                     वारि-कण अटके पलक-सेवार पर;

लाज के तट बाँध देते वेदना,

                    फेर भर लाते अधर निज हार पर।

 

जन्म लेते जो उषा की  दीप्ति से,

वे सुनहरा रष्मि -नर्तन जानते;

क्षणिक पष्चिम लालिमा के जन्य जो,

बस तिमिर का अन्धयुग पहचानते।

 

यह विवषता बहुत पहचानी हुई,

                           वेदना भी सखी साँसों संग पली;

मोड़ पर दुःख के मिले अनुभव नए,

                           चिर कथा नित नव्य कल्पों में ढली।

 

वेदना का सिन्धु मायावी बड़ा,

                    है डुबो जाता पलों में तन-सदन;

भ्रम-लहर से मुक्ति पा ले बुद्धि तो,

                    स्वर्ण नगरी पर बिछे बन मरू विजन।


 

 

जिस हृदय में राज्य करती वेदना,

                   हीनता करती वहाँ विस्तार है;

कौन पाता अग्नि बोती भँवर के,

                  दलदली नैराष्य से निस्तार है?

 

वेदना का भार इतना कठिन है,

                     झुक रहे दिक्, झुक गए हैं श्याम घन;

है पवन चक्रित इसी आवेग में,

                     खईयों में झुक रहे महि के नयन।

 

श्याम रेखाएँ खचित हैं पत्र पर,

                     और काले काग उनमें सो रहे;

कालिमा, हर ओर छायी कालिमा,

                     श्याम जल में शयाम बादल खो रहे।

 

टूटती है लहर बन कर आस-सी,

                      डगमगाता फूल सुधि का डार में;

पाँखुरी पर ओस-कण ले काँपते,

                      बहे शापित अघ्र्य-सा जल धार में।

 

ऊब बोझिल सर्वव्यापी पीर से,

                       एक रेखा खींच दी सीमा बना;

धरा-नभ ने क्षितिज-पट के नाम से,

                       अब न इसके पार जाए वेदना।


 

 

पीर का पर कार्य इतना युक्तिमय,

                   धुआँ बन उड़ जा रही आकाष में;

दूर पर जो एक तारा हँस रहा,

                   बाँध लेने लपक अपने पाष में।

 

दुःख ने हैं लहर के टुकड़े  किए,

                    बीचियों के खंड तारक-बिंब यों

आस-दर्पण हृदय का खण्डित हुआ,

                     साथ का हर टूक में प्रतिबिम्ब ज्यों

 

धम्र का यह चक्र चलता जा रहा,

                    निकलते उपहार दुख रूपी सभी;

किस तरह चिकने मृदुल मधुघट बने ?

                    भावना का सम नहीं साँचा अभी।

 

है बँधी उस पार नौकाएँ विकल,

                      काँपती धुँधली पड़ी निरूपाय सीं;

पवन का आघात हू-हू कर रहा,

                     लहर झंझाएँ उठीं गिरि-काय-सी।

 

पात रूखे श्वसन में आधारहीन,

                          उड़ रहे, उच्छ्वास में ज्यो सान्त्वना;

ये बवण्डर मलय की जैसे चिता,

                            रेणु का आँचल कफ़न पहरे घना!


 

 

श्याम अजगर ग्रस रहे हर विटप को,

                          विकट झंझा, फूतकार कराल है;

तने के तन में युभाने दन्त विष,

                           नागफण-सी हिल रही हर डाल है।

 

आदि से ही धरित्रीं दुखिता बड़ी

                            अग्नि झरते ताप युग-युग तक सहे;

फिर कठिन वर्षा, कलेजे की फटन,

                           आज षिषुओं की व्यवस्था का दुःख दहे!

 

यह नियति की रीति तम जिस पर पड़े

                              फेर लेती दृष्टि है जग-चेतना;

सृष्टि हो या उर किसी का निष्किरण,

                               चाहता है कौन उसको देखना ?

 

वही है यह गगन, बादल हैं वही,

                          वही सौरभमय सुमन  हैं खिल रहे;

है मलय भी साँझ की-सी मधुमती,

                           तरू वही हैं, पत्र वैसे हिल रहे !

 

एक कवेल तिमिर क्या है छा गया,

                         छीन ली निज तान नभ से खगों ने,

स्वार्थ मानव का सदा से प्रिय रहा,

                        ले लिए कल्लोल भू से मृगों ने।


 

 

इस जगत् से आस की आराधना,

                      प्राणियों को अब नहीं गन्तव्य है; 

लक्ष्य जीवन का अगर सच है कहीं,

                      एक ही बस कर्म का कर्तव्य है। 

 

है व्यथा का वन बहुत विस्तीर्ण,पर

                        टेक ले जो सिर, कहाँ वह स्थान है ?

विचरते सुख-हंस पर अपने नहीं,

                       पथ मिले दुःख का नहीं प्रस्थान है।

 

गीत यष के अधर-हासों पर दिखे,

                        छुपा झंझावात अनदेखा रहा;

जगमगाते तारकों को आँकते,

                        टूटतों का पर कहाँ लेखा रहा ?

 

छुप गई छाया व्यथा की प्रकृति में,

                       दुःखी हृदया में जगी फिर विकलता;

मृत्यु के अंतिम क्षणों में फिर अरे!

                       अश्रु-फूलों में भरी यह नवलता।

 

पाप प्राणों ने किए थे कौन से?

                     जो न जीने को उसे जीवन मिले,

क्या सजेगा फूल स्मित छिन गया यदि,

                     स्नेह बिना तो दीप की लौ क्या खिले !


 

 

धरा चाहे, मैं बनूँ फलदायिनी,

                          कली को उत्फुल्लता की साथ है;

बीन माँगे स्वर, दिया ज्यों स्नेह लौ,

                          बोल दाता, कौन सा अपराध है?

 

आत्म-विस्मृत रेत-षय्या पर पड़ी,

                        था रूलाता भाग्य जिसको निर्दयी;

किंतु उसके मूक, बेबस रूदन पर,

                        हो उठी थी प्रकृति माँ ममतामयी । 

 

लहर ने शीतल मधुर कर-स्पर्ष से,

                        प्यार सिंचित कर दिया तापित बदन;

कुन्तलों को पवन ने दुलरा दिया,

                       निषि निहारे, नयन में भर अश्रु-कन।

 

एक तारा टिमटिमाया ज्योति भर,

                        बदलियों की चूनरी उड़ने लगी;

ओर फिर कुछ ही पलों पष्चात् तो,

                       चाँद की आँखें हुई कुछ अधजगी। 

 

बीन गोरी उँगलियों से शूल -तम-

                      ज्योति-पुष्पित ओंठ से मुसका गई;

दिव्य ममता ले तिरस्कृत देह को,

                      चाँदनी निज अंक भरने आ गई।


 

 

जमुन ने ठंडक सजल दी वायु को,

                    फूल ने ढेरों सुरभि दी दान में;

तरूवरों ने पात मिस संवेदना,

                    उड़ा भेजी दुःखी उर के मान में।

 

ओस-कण नभ ने गिराये धरा पर,

                       फेंक भेजी एक घन ने तारिका;

चन्द्र-किरनें बरस देतीं सान्त्वना,

                       नीड़-बाहर आ गये शुक-सारिका।

 

तप्त मस्तक पर प्रलेपन कर रहीं,

                      चाँदनी की स्निग्ध संदल उँगलियाँ;

पोंछने लग गई आँसू प्यार से,

                      रेत की शीतल, नरम हथेलियाँ।

 

धवल पाँखों से सजी शषि की परी,

                      तारकों से माँग बेंदी साज कर;

कल्पना ज्यों, आँख में सपना बने,

                     ज्योत्सना बन छा गई आकाष पर ।

 

और फिर सुकुमारियाँ शषि-नगर की,

                     लहर में घन-चीर ओढ़ उतर गई;

दे रूपहला रूप जगमग वारि को,

                     नभ-धरा पर्यन्त प्रकृति सँवर गई।


 

 

आज पहली बार इस सुख-दृष्य को,

                     देखने मे ंरम गए दृग एकटक,

तरू लता-सरिता-सुरभि-सम्पन्न यह

                     विष्व जैसे चन्द्र का हो धवल घट।

 

नयन से ही दिखे झूठा दृष्य है,

                     सत्य वह प्रतिबिम्ब, मन-दर्पण दिखे;

लेखनी के लेख तो मिटते चले,

                     पर अमर वह लेख, जो साँसों-लिखे ?

 

स्वयं में सम्पूर्ण छन्द मनुष्य है,

                       सर्ग संस्कृति, पृष्ठ बहता काल है;

भरे नव रस, करूण किन्तु सुखान्त भी,

                       विष्व ही यह महाकाव्य विषाल है।

 

हर अमा सोपान पूनम की बनी,

                          हर निषा लाती नया सूरज सदा;

बरसते घन-नयन धरती जी उठे,

                          स्वयं नष्वर पर सफलता आपदा ।

 

हर किसी ने दुःख सहा है जगत् में,

                      रो चुकी हर आँख इस संसार में;

शरद की पूनम अमृतमय है मगर,

                       जगमगाती तुहिन के अंबार में । 


 

 

अजर कालिन्दी युगों से बह रही,

                      वही निर्मल जल, वही कलगान है;

सींचती जा रही जीवन-चेतना,

                      सत्य हो, सुन्दर बने, कल्याण है!

 

घन-पटल में चाँद कब तक रह सका,

                     ज्ञान से अज्ञान की निभती नहीं

रोषनी है, इसलिए ही छाँह है,

                     पाप, दुःख से जिन्दगी मिटती नहीं। 

 

दीप से कालिख नहीं, काजल बने,

                     धूप में हो छाँह शीलता लिए ;

रात दे विश्राम तन को, हृदय को,

                     यत्न हो, अविराम, मानवता जिए।

 

आ प्रकृति की गोद में ही सर्वदा

                       जन्म लेने का विभव ज्ञातव्य हो;

प्रकृति के कण-कण बसी ममता तरल,

                      शक्ति का अस्तित्व है, ध्यातत्वय हो।

 

यही ममता प्रकृति की जननी अमर

                       संकल्प बल ही जनक है यह ज्ञान ले

सृष्टि-कण-कण बंधु स्नेहाकांक्षी

                       यही मंजिल एक अब पहचान ले। 


 

 

यही माता पाल कर है पोसती,

                        शक्ति यह ही कर रही रक्षा सदा;

और सब उद्देष्य के हैं हेतु भर,

                        एक गुरू अन्तःकरण की शारदा।

 

क्रम यही चलता रहेगा दर्द का,

                        तू न जो दो डग नए भर पाएगी,

क्रूर बर्बर इस अनादि सलीब पर,

                        ये कहानी मृत्यु फिर दुहराएगी।

 

सिर झुकाए शूल तू देखे गई,

                         इस अधूरे पक्ष को ही पूर्ण कह;

शूल के ऊपर उगे रहते सुमन,

                        सिर उठा तो श्रेय होगा सत्य यह।

 

पलक-अटकी बूँद मलयांचल गिरी,

                        षिषु-सदृष है, पत्र पीले लिपटते,

ज्यों कथा कह कर हुए हों मौन सब,

                        पवन, धरती, नभ लहर चुप निरखते। 

 

सतत ज्योतित अप्रतिम मणि के सदृष

                        है प्रकाषित पल उगा संकल्प का;

स्वयं पर विष्वास साहस पूर्ण हो,

                         अनवरत लहरा यही तरू कल्प का।


 

 

वीरता, संघर्ष, धीरज ध्येय में,

                       शक्ति में उत्साह, श्रम में सृजन हो;

आस देवोपम, प्रतीकित आस्था,

                        नए युग-निर्माण का यह भजन हो।

 

थम गया रोना सघन तूफान-सा,

                         एक अद्भुत प्यार-सा मन को मिला;

पा नयी अनुभूति, न्यारी सान्त्वना,

                         शुभ विचारों का कमल अभिनव खिला।

 

जयी आषा हो निराषा पर सदा,

                  आस के कर सीख लें जो सर्जना;

ऊर्जा भर नवल, खिले जिजीविषा,

                  भंग हो सत्-चेतना की मूच्र्छना

 

दुःखी-हृदया सोचती उठ खड़ी हो,

                      एक तन्द्रित चेतना-सी जग पड़ी;

मैं खिलाऊँ यत्न का ले उर्वरक,

                      कर्म-जल भर ताप झुलसी पंखड़ी।

 

आ लहर ने दी बधाई नाच कर,

                     गा उठे यष-गीत भी झींगुर मधुर;

चाँद हँस-हँस दे रहा शुभ कामना,

                      थे हिलाते वृक्ष अपने पात-कर।


 

 

हिला घन-तल गगन शुभ आष्ीाष दें,

                          तारिकाएँ आरती सी सज गईं;

कली की चिटकन, लहर की मुरलियाँ,

                          पवन में हो-हो मुखर थी बज गईं।

 

हरी-पीली पत्तियों की झालरें,

                        चाँदनी के बेल-बूटों में मढ़ी,

पवन के झोके कहारों से बढ़े,

                        चली दूल्हन नव-लगन डोली चढ़ी। 

 

धरा थी कुछ आर्द्र, हर्षित-मना भी,

                     निज सुता का ब्याह जीवन से किया;

दूर तक पहुँचा रही सुरभित मलय,

                      नेग में मकरन्द फूलों ने दिया। 

 

 

Read 3079 times Last modified on Monday, 14 July 2014 11:43
Shobha Shrivastava

शोभा श्रीवास्तव जिन संस्कारो में जन्मी और पली उसे उर्दू संस्कारो का परिवेश...
Connect to Author